गैस चेंबर बनी दिल्ली में ऑड-ईवन, केजरीवाल बोले- आज सड़क पर नहीं उतरी 15 लाख कारें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी में दमघोंटू और विकराल रूप ले चुके वायु प्रदूषण पर गहरी चिंता जताते हुए कहा कि सरकार इसे नियंत्रण में करने के लिए हरंसभव कदम उठा रही है। केजरीवाल ने प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सोमवार से शुरू की गई सम-विषम योजना पर कहा कि पूरे उत्तर भारत में इस समय धुंध की गहरी चादर छाई हुई है। प्रदूषण गंभीर स्थिति में है और सरकार इसे लेकर बहुत चिंतित है। सरकार लोगों को प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पराली जलाने से जो धुआं दिल्ली आ रहा है, उसे रोकने के लिए सरकार कुछ नहीं कर सकती है लेकिन राजधानी में प्रदूषण को कम करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। सरकार की तरफ से लोगों को मास्क बांटे गए हैं। वाहन प्रदूषण को कम करने के लिए वाहनों खासकर कारों के लिए सम-विषम योजना शुरू की गयी है। आज सुबह से शुरू इस योजना का पूरी दिल्ली में पालन किया जा रहा है। इसका उल्लंघन करने पर बहुत कम चालान करने पड़े हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 30 लाख कारें हैं। योजना के शुरू होने से आज आधी अर्थात 15 लाख कारें सड़कों पर नहीं उतरीं। इससे प्रदूषण कम होगा।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोगों ने सरकार की सम-विषम योजना को जबर्दस्त समर्थन दिया है। सरकार और जनता ने मिलकर ढाई माह में डेंगू को परास्त किया है और उन्हें पूरा भरोसा है कि दिल्ली के लोग मिलकर प्रदूषण को भी मात देंगे। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के विज्ञापन पर काफी धन खर्च करने के उन पर लगाये गये आरोप को राजनीति बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि वह झूठ पर झूठ फैला रहे हैं। दिल्ली सरकार का विज्ञापन बजट ही 150 से 200 करोड़ रुपए का है और अभी भी काफी पैसा इस मद में शेष है। सरकार ने विज्ञापन का पैसा डेंगू जागरुकता अभियान पर खर्च किया। दिल्ली सरकार के डेंगू अभियान को अनूठा बताते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता के साथ इस जानलेवा बुखार पर काबू पाया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जावड़ेकर को दिल्ली के लोगों की तारीफ करनी चाहिए न कि उनके इतने बड़े प्रयास को कमजोर करना चाहिए। उत्तर भारत के प्रदूषण पर केंद्र सरकार को ही काम करना होगा और हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में पराली को जलाने से रोकने पर केंद्र ही कुछ कर सकता है। इसके लिए दिल्ली को दोषी ठहराना उचित नहीं है। केंद्र को सभी राज्य सरकारों के साथ मिलकर इसके विकल्प की तलाश करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता सम-विषम का समर्थन और पालन कर रही है तो दूसरी तरफ भाजपा इसका विरोध कर रही है जो ठीक नहीं है। भाजपा को दिल्ली के लोगों के प्रयास का साथ देना चाहिए न कि राजनीति करनी चाहिए। दिल्ली यातायात पुलिस से लोगों को सम-विषम योजना का पालन कराने और लोगों के सहयोग की अपील करते हुए केजरीवाल ने कहा कि जरूरत पड़ने वह उप राज्यपाल से इस संबंध में बातचीत करेंगे।

ट्रैक्टर ट्राली से टकराई बाइक, दो लोगों की मौत, एक गंभीर घायल     |     मुख्यमंत्री चौहान ने दिल्ली के गणतंत्र दिवस समारोह में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले एन.सी.सी. कैडेट्स को किया सम्मानित     |     नेशनल हाईवे से हिदायत देकर हटवाया अतिक्रमण     |     20 लीटर नाजायज कच्ची शराब व एक चाकू के साथ तीन गिरफ्तार     |     जिले में 25 जनवरी को मनाया जाएगा 13वां ’राष्ट्रीय मतदाता दिवस’-जिलाधिकारी     |     केरल की फुटबाल टीम ने 20 गोल कर बनाया इतिहास, दमन-दीव को हराया     |     श्रावस्ती में महसूस क‍िए गए भूकंप के झटके     |     मुख्यमंत्री चौहान ने निजी वेबसाइट का किया शुभारंभ     |     अडानी समूह मामले में कांग्रेस का कामकाज स्थगित करने का नोटिस        |     37 परिवारों को मकान निर्माण के लिए मिले 44 लाख…. बाढ़ में कट गए थे रामनगरा गांव के 37 परिवारों के घर, 44 लाख कृषकों को 21. 84 करोड़ का अनुदान     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088